pregnant kaise hote hai | प्रेग्नेंट कब और कैसे होता है हिंदी 2020


pregnant hona किसी भी महिला के लिए मां बनना जीवन का सबसे खूबसूरत अनुभव होता है।

इसके एहसास भर से  ना केवल महिलाएं बाकी उससे जुड़े सभी लोग भी रोमांचिक हो उठते है।

घर में एक बच्चे के आने से पूरे घर का माहौल हमेशा के लिए बदल जाता है।

गर्भवती होना  या एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देना मुश्किल बात है।

गर्भवती होने के लिए सही समय पर संबंध बनाना बहुत ही जरूरी है साथ में प्रेग्नेंट होने की जानकारी होना जरूरी है।

 दूसरी अहम बातों को ध्यान में रखना भी जरूरी है।

आज हम इसी बात पर चर्चा करेंगे, की पीरियड आने के बाद  गर्भधारण कब होता है।
 प्रेगनेंसी के लिए कब संबंध बनाना जरूरी होता है और  pregnant kaise hote hai in hindi मे 

आप के प्रश्न कुश इस प्रकार होंगे

 Pregnancy कब होती है?

Pregnant Kaise Hote Hai

 गर्भवती कैसे होते है?, 

गर्भावस्था कैसे शुरू होती है?

 गर्भ कब और कैसे ठहरता है? 


आप के इन्ही  सवालों के जवाब पाने के लिए पूरा पढ़े
pregnant kaise hote hai
pregnant kaise hote hai



प्रेगनेंसी आप अपने पार्टनर के साथ पीरियड्स के बाद सही समय पर सम्बन्ध बनाते है तो प्रेगनेंसी के प्रयास सफल रहते है।
महिला के शरीर में दो इम्पोर्टेन्ट ऑर्गन्स रहते है,
एक  बच्चेदानी  जिसको न्यूट्रन्स  बोलते हैं।
 उसके साथ मे दो अंडेदानी रहती है और न्यूट्रन्स के ट्यूब रहते है।
जिसको नली बोलते हैं या फेलुबेन नली  बोलते हैं।

सामान्यतः  एक महिला को परियडस या महीना आता है  तो उसके दूसरे दिन से  दोनों अंडे दानी मे X  रहते है जिसको अंडा बोलते है।
 उस अंडे (X) की,   शरीर मे हार्मोनस की वजह से  ग्रोथ   होना स्टार्ट हो जाती है।


एक अंडे को पूरी तरह  बढ़ने के लिए आठ से बारह दिन का समय लगता है बाद मे अंडा फुट के फेलोपियन ट्यूब के अंदर आता है।
 यहाँ पर वो लगभग 24 घंटे तक जिन्दा रहता है।

इन 24 घंटो मे अगर आप सम्बन्ध बनाते है तो आप पुरुष के शुक्राणु योनि के अंदर प्रवेश करते है।
 तो शुक्राणु पुरे गर्भाशय को क्रॉस करते हुए जो फेलोपियन ट्यूब रहती है उस ट्यूब मे आता है।
उसके बाद उनका फर्टिलाइजेशन होता है मतलब अंडे और शुक्राणु का मिलन होता है।

एक बार फर्टिलाइजेशन हो गया तो 2 से 3 दिन बाद वह जो तैयार ब्रुन है वह आके न्यूट्रास या गर्भ पिशवी के अंदर आके बैठ जाता है तो इस प्रक्रिया को इम्प्लांटेशन बोलते हैं।

इस प्रक्रिया को 12 दिन से लेकर 18 दिन तक तैयार हो जाता है।
इसीलिए आप को पीरियड्स के 10 दिन आ जाए  दसवे  दिन के बाद एक दिन छोड़कर एक दिन संबंध बनाया जाये तो  प्रेगनेंसी का चांस बहुत अधिक रहता है। 

क्योकी  महिला के अंदर जो अंडा रहता है वह 24 घंटे तक जिंदा रहता है लेकिन जो शुक्राणु रहता है। वह दो से ढाई दिन तक रहता है।

इसीलिए आप अंडा फूटने के  2 दिन बाद या 2 दिन पहले भी संबंध बनाते हो तो pregnent hona  या प्रेगनेंसी का होना बहुत अधिक सफल रहता है।

इस पूरे प्रोसेस को फर्टिलाइजेशन बोलते हैं।
सक्सेसफुल गर्भधारण करने के लिए यह सब प्रक्रिया आवश्यक है।

ये भी पढ़े
बालों को लम्बा मोटा करने के 5 पॉवर फुल तरीके


प्रेग्नेंट होने के लिए सबसे सही उम्र क्या है?



pregnant kaise hota h
pregnant kaise hota h
 प्रेग्नेंट होने के लिए या एक महिला को मां बनने के लिए या प्रेग्नेंट होने के लिए सबसे सही उम्र होना जरूरी



 वैसे तो महिला 18 से 20 वर्ष की होने पर गर्भ धारण कर सकती है लेकिन  25 -30 तक सबसे अच्छी मानी जाती है।

डॉक्टर की सलाह

 30 वर्ष के पहले बचा पैदा करना सही रहता है क्योंकि उसके बाद महिला के अंडे मे कमी या  कमजोर होने लगते है।
अगर हम 35 को क्रॉस कर जाते है तो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकार के चांस बढ़ जाते हैं।
 अगर आप 35 साल के बाद बच्चा प्लानिंग कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें जिसे की आने वाली समस्याओं को कम किया जा सकता है।

जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए क्या खाये?


हर महिला या पुरुष  के मन मे ये सवाल जरूर उठता होगा की जल्दी से गर्भवती होने के लिए क्या खाये, क्या खाने से गर्भ धारण करने मे  मदद मिलेगी।
 आप खाने मे हेल्दी डाइट ले जिससे आपका शरीर हेल्दी रहेगा तो जल्दी आप के आँगन मे किलकारी गूंजेगी।

1. हरी पत्तेदार सब्जियाँ पालक,मैथी,  सरसों  और पत्तागोभी  खाये इसमे आइरन, फोलिक और विटामिन्स जैसे पोषक तत्व पाए जाते है जो पुरुष मे शुक्राणु की संख्या बढ़ाता है।

2.  दूध और दूध से बनी वस्तुओ का सेवन करें प्रोटीन, केलिसियम और विटामिन बी, जरुरी पोषक तत्व  पाया जाता है।
जो आपके हार्मोस का संतुलन रखते है इससे बाझपन का खतरा भी कम हो जाता है।

3. दाले  खाये अगर आप नॉनवेज नहीं खाते है तो आप के लिए बढ़िया ऑप्शन है आप मुंग, तुअर, उड़द, मसूर  या चने की दाल का सेवन करें इनमे जरुरी पोषक तत्व पाए जाते है।

4.  कद्दू के बीज खाएं इन मे भरपूर आइरन पाया जाता है जो आप को गर्भ धारण करने मे मदद कर सकते हैै।

5. सबूत अनाज के खाने से बॉडी मे इन्सुलिन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है जो प्रेग्नेंट होने मे मदद करेगा।

6.सूखे मेवे बादाम, काजू, किसमिस और अखरोट का सेवन करें इनमे आइरन, कैलिशियम, जिंक, प्रोटीन भरपूर मात्रा मे पाया जाता है।



क्या अनियमित माहवारी (अनियमित पीरियड्स) के साथ गर्भवती होना संभव है?


सामान्यतः जिन महिलाओ के पीरियड्स नार्मल है 24-35 के अंदर माहवारी हो जाती है।
उनके लिए ओवुलेशन ट्रैक करना आसान हो जाता है और वह आसानी से गर्भ धारण कर सकती है। 

लेकिन आप अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड्स मे ओवुलेशन का सही पता नहीं चल पाता है।
और बिना ओवुलोसन के pregnent hona इम्पॉसिबल है

अगर आप भी इसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


क्या पीरियड्स के दौरान प्रेगनेंसी हो सकती है?


आप के पीरियड्स के बाद आप जब ओवुलोसन होता है तब अंडा रिलीज होता है।
यहाँ पर 24 घंटे तक रहता है जो आपके पार्टनर पुरुष के शुक्राणु के साथ मिलना पड़ता है जिसे फर्टिलिजेसन कहते है।
इसमें समय आपकी योनि pregnant hone के लिए तैयार रहती है।
 अगर आप इस समय यौन संबंध नहीं बनाते हैं अंडा और झिल्ली मूत्र मार्ग से बाहर निकल जाती है।
 ओवुलेशन आपके पीरियड्स के दिन से अगले 14 दिन तक का समय रहता है।
 और पुरुष के शुक्राणु दो से ढाई दिन तक जिंदा रहते हैं तो आपके गर्भधारण करने की अधिक संभावना बनी रहती है।

प्रेग्नेंट होने के लक्षण


प्रेग्नेंट होने का सबसे पहला लक्षण महीना छूट जाना या महीना चढ़ जाना होता है।
शुरुआती तीन महीने तक जी गबरना,  उल्टि, मितली या चक्कर आना,  हल्का बुखार,  कब्ज , बारबार पेशाब लगना, भूख कम लगना, नींद ज्यादा लगना, सीने मे भारीपन, कमर मे दर्द रहना जैसे लक्षण होते है।
अगर आप भी इन लक्षणों को महसूस कर रहे है तो आप समझ सकते है की आप प्रेग्नेंट है।
ज्यादा जानकारी के लिए आप  प्रेगनेंसी चेक अप किट का उपयोग कर आसानी से पता कर सकते हैं।

क्या अधिक वज़न के कारण गर्भधारण में परेशानी आ सकती है?


यदि आप का  वजन अधिक है  या मोटापा है और आप फैमेली प्लान कर रहे हो  या आप प्रेग्नेंट है तो इन बातो का ध्यान रखे ।
जब भी आप के शरीर मे चर्बी बढ़ती है तो आप के हार्मोन डिस्बैलेंस हो जाते है और पीरियड्स भी गड़बड़ी स्टार्ट हो जाती है ।
अगर आपका मोटापा कुछ ज्यादा है तो हार्मोन डिस्बैलेंस से गर्भ धारण करने मे परेशानी आती है।  अगर गर्भ हो गया तो भी माँ और बच्चे दोनों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इसलिए आप अपने डॉक्टर की सलाह से काम ले बेहतर वही होगा।

क्या पहले गर्भपात का प्रभाव दूसरी प्रेगनेंसी पर पड़ सकता है?


अक्सर महिलाये पहली बार गर्भ धारण करती है। और अगर उसे गर्भपात या मिसकैरेज का सामना करना पड़ा है। तो उसके मन मे यही  सवाल आता है। 
गर्भपात होने पर भविष्य मे आप को माँ बनने मे दिकत्तो बार-बार मिसकैरेज, योनी से खून बहना, एटॉपिक प्रेगनेंसी, या बांझपन का सामना करना पड़ सकता है।
ऐसे आप अपने स्त्री रोग विषेशज्ञ से अपनी जाँच करवाये एवं उनकी सलाह से काम ले यही बेहतर होगा।

क्या मेनोपॉज़ के बाद प्रेगनेंट होना संभव है?


कई महिलाये अपने जीवन काल मे मानसिक और शारीरिक परेशानियों गुजरती है। 
धूम्रपान,  गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल, अंडाशय की पहले से की गई सर्जरी या कैंसर रोग मे की गई थेरेपी या पारिवारिक तनाव से कम उम्र मे अण्डाणुओ की संख्या मे कमी आ जाती है।
ऐसी स्तिति मे अंडाशय खराब हो जाते है और वह पर्याप्त मात्रा मे ऐस्ट्रोजन हार्मोन पैदा नहीं करते है  या अंडा नहीं देते है। 
अण्डाणुओ की संख्या मे कमी के चलते महिलाओ मे प्रजनन नहीं होता है और गर्भवती होना मुश्किल हो जाता है। 
मेनोपॉज से महिलाओ मे माँ बनने का मौका पूरी तरह से खतम नहीं होता बल्कि कम हो जाता है।
अगर आप बच्चा पैदा करना चाहते है तो डॉक्टर से सलाह ले यही बेहतर होगा।

क्या व्यायाम करने से गर्भधारण करने में मदद मिलती है?


अगर आप नियमित व्यायम करते या करना चाहते है। तो हम आप को बता दे की व्यायाम करने से हमारे शरीर का ब्लड सर्कुलन बढ़ता है।
पूरा दिन अपने आप को स्वस्थ या एक्टिव महसूस होता है जो आपके अंडाशय के लिए फायदेमंद है।
भरपूर नींद का मिलना, हार्मोन्स का संतुलन, मोटापे के जोखिम कम करना, शरीर की  रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना आदि कई फायदे है।
लेकिन प्रेग्नेंसी मे योग करने से पहले आप को जानना जरुरी है की आप कौन - कौन से योग को गर्भवती होने पर कर सकते हो। 
जिम या ज्यादा उछल कूद वाले योग की अनुमति नहीं होती है।    
इसलिए अपने डॉक्टर से सहायता जरूर ले यही बेहतर होगा। 

प्रेग्नेंट होने के लिए प्रजनन क्षमता को कैसे बढ़ाये?


pregnant kaise hoti hai
pregnant kaise hoti hai


 प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए ज्यादा विटामिंस और मिनरल्स को डाइट में शामिल करें जिससे गर्भवती होने में काफी मदद मिलती है।
लहसुन खाना प्रजनन शक्ति के लिए काफी लाभदायक माना जाता है।
आप नियमित रूप से बादाम, अंडा, हरी गोभी, कद्दू के बीज, केला, आलू, हरीपत्तेदार सब्जियाँ, अनार, सेब, हरी मिर्च का सेवन करें।
 जिससे आप को आप के शरीर को जरुरी पोषक आसानी से मील जाए।


हँम यही आशा करते है की pregnant kaise hota hai hindi मे हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगेे।
अगर किसी प्रकार की जानकारी हम से मिस हो गई है तो कमेंट मे लिखें, हमे आपकी मदद करने मे ख़ुशी मिलती है
अपने व्हाट्सप्प, फेसबुक या इंस्टाग्राम  पर शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़े


Post a Comment

0 Comments